बुधवार को मुंबई के वानखेड़े स्टेडियम में खेले गए इस मैच में अजहरुउद्दीन ने महज 37 गेंदों शतक जड़कर टी-20 क्रिकेट में एक बड़ा रिकॉर्ड अपने नाम कर लिया।

भारतीय घरेलू क्रिकेट का लोकप्रिय टूर्नामेंट सैयद मुश्ताक अली टी-20 टूर्नामेंट शुरू होते ही रोमांच के अपने चरम पर पहुंच गया है। टूर्नामेंट के शुरुआती मुकाबलों में ही घरेलू क्रिकेटरों ने अपना दमखम दिखाना शुरू कर दिया है। ऐसा ही एक मुकाबला एलीट ग्रुप ई में मुंबई और केरल के बीच खेला गया जिसमें युवा ओपनर बल्लेबाज मोहम्मद अजहरुउद्दीन ने धमाकेदार शतकीय पारी खेली।

बुधवार को मुंबई के वानखेड़े स्टेडियम में खेले गए इस मैच में अजहरुउद्दीन ने महज 37 गेंदों शतक जड़कर टी-20 क्रिकेट में एक बड़ा रिकॉर्ड अपने नाम कर लिया। 26 साल के अजहरुउद्दीन ने सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी में दूसरा सबसे तेज शतक लगाया है। इससे पहले ऋषभ पंत ने साल 2018 में 32 गेंद में शतक लगाया था। रोहित शर्मा और ऋषभ पंत के बाद भारतीयों में उन्होंने ही सबसे तेज शतक लगाया है।

अजहरुउद्दीन मैच में आखिर तक नाबाद रहे और उन्होंने 137 रनों की पारी खेली। इस दौरान उन्होंने अपनी पारी में 11 शानदार छक्के भी लगाए जबकि इस पारी में उनके 9 चौके भी शामिल थे। ऐसे में उनकी इस पारी ने इंडियन प्रीमियर लीग के फ्रेंचाइजियों को भी जरूर आकर्षित किया होगा, जो कि सीजन-14 के लिए आने वाले महीनों में ऑक्शन की तैयारी में हैं। 

आपको बता दें कि मोहम्मद अजहरुद्दीन की इस तूफानी शतकीय पारी से ही केरल ने मुंबई के द्वारा दिए गए 197 रनों के लक्ष्य कों पारी के 16वें ओवर में ही पूरा कर लिया। मुंबई की टीम ने इस मुकाबले में यशस्वी जयसवाल (40) और आदित्य तरे (42) के विस्फोटक शुरुआत से निर्धारित 20 ओवर में 7 विकेट के नुकसान पर 196 रनों का स्कोर खड़ा किया।

इसके बाद लक्ष्य का पीछा करने उतरी केरल की टीम ने अजहरुउद्दीन के शतक के साथ रॉबिन उथप्पा के 33 और संजू सैमसन के 22 रनों की मदद से 15.5 ओवर में 201 रन बना डाले और मुकाबले को 8 विकेट से जीत लिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here