घटना राजस्थान के रणथंभौर नेशनल पार्क के बफर जोन के पास स्थित कानेटी गांव की है, जहां एक टाइगर ने हमला कर एक चरवाहे को मौत के घाट उतार डाला.

राजस्थान के रणथंभौर नेशनल टाइगर पार्क से एक बार फिर परेशान करने वाली खबर सामने आई है. यहां एक टाइगर ने बकरी चरा रहे एक चरवाहे पर हमला बोलकर उसे मौत के घाट उतार दिया है. देश भर के टूरिस्टों को लुभाने वाले रणथंभौर नेशनल पार्क में अब ये कहा जाने लगा है कि क्या एक और बाघ आदमखोर हो गया है?

घटना राजस्थान के रणथंभौर नेशनल पार्क के बफर जोन के पास स्थित कानेटी गांव की है, जहां एक टाइगर ने हमला कर एक चरवाहे को मौत के घाट उतार डाला. इससे पहले, इस टाइगर ने टाइगर की ट्रैकिंग करने वाले वॉलंटियर पर भी हमला करने का प्रयास किया था. लेकिन वह किसी तरह बच निकलने में सफल रहा.

राजस्थान के सवाई माधोपुर के रणथंभौर नेशनल पार्क की खंडार रेंज के बालेर इलाके में, नेशनल पार्क की सीमा के पास, एक चरवाहा पप्पू लाल गुर्जर अपनी बकरियां चरा रहा था. तभी झाड़ियों की ओट में छिपे एक चीते ने बकरी चरा रहे पप्पू लाल गुर्जर पर हमला कर दिया और देखते ही देखते उसे मौत के घाट उतार दिया. आस-पास काम कर रहे ग्रामीणों ने जैसे-तैसे हो-हल्ला करके टाइगर को वहां से भगाया.

इस घटना के बाद समूचे इलाके में दहशत का माहौल है. घटना की सूचना मिलने पर वन विभाग के आला अधिकारी एवं कर्मचारी मृतक के गांव पहुंचे, जहां उन्हें ग्रामीणों के विरोध का भी सामना करना पड़ा.

बहरावंडा कला थाना पुलिस शव को खंडार स्थित अस्पताल लाई, जहां पर मेडिकल बोर्ड की मौजूदगी में मृतक के शव का पोस्टमॉर्टम किया गया. मृतक के गले पर टाइगर द्वारा हमला किए जाने का गहरा घाव नजर आ रहा है. वन विभाग के अधिकारी टाइगर टी 72 के युवा शावक द्वारा हमला किए जाने का अंदेशा जता रहे हैं. फ़िलहाल वन विभाग की टीम टाइगर की ट्रैकिंग में जुट गई है. ताकि इस तरह की घटना दोबारा न हो और आसपास के लोगों का भय खत्म हो सके.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here